Jaina dharma ke prabhāvaka ācārya

Front Cover
Jaina Viśva Bhāratī, 2001 - Jaina saints - 688 pages
0 Reviews
Comprehensive work on Jaina saints and their philosophy and religion.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Other editions - View all

Common terms and phrases

अज अति अध्ययन अनादि अपना अपनी अपने अम अमल अल अव अवन्ति आचार्य इन इस इस प्रकार उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उपलब्ध एक एवं और कर करते करने का उल्लेख का नाम कार्य काल किया किसी की रचना कृति के अनुसार के कारण के पास के बाद के लिए के समय के साथ को क्रिया गई गए गया है गुजरात गुरू जन्म जा जायं जीवन जैन जैन धर्म जो टीका तक तथा था थी थे दिन दिया दीक्षा दोनों धर्म नहीं है नि ने नोश पत पति पद पद्य पर परम्परा में पुराण पू पृ प्रण प्रदान प्राकृत प्राप्त बने बार बी भद्रबाहु भाषा भी माना में मैं यम यल यह यहीं रहा राजा रूप वर्ष वि विद्वान विशेष वीरसेन वे शक्ति श्री सं संघ संस्कृत सामने साहित्य से सोमदेव स्थान ही हुआ हुई हुए हेमचन्द्र हैं हो गया होकर होता है होते

Bibliographic information