Kālidāsa kī preraṇā kā mūla strota, Himālaya

Front Cover
Bhāratīya Prācya Vidyā Śodha Saṃsthāna, 1993 - Nature - 167 pages
0 Reviews
Influence and depiction of the Himalayas in the works of Kālidāsa, Sanskrit author.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

7 other sections not shown

Other editions - View all

Common terms and phrases

अत अधिक अनेक अपनी अपनी जन्मभूमि अपने इस प्रकार उज्जयिनी उत्तराखण्ड उस उसका उसकी उसके उसे एक एवं ओर कर करते करने कवि का का भी कालिदास ने कालिदास ने अपने काव्य किसी की कुछ कुरुक्षेत्र के कारण के द्वारा के प्रति के लिए के साथ को गया है गंगा ज्ञान जाता है जीवन जो तक तथा तन्त्र तभी तुम तो था थी थे दिया दूर नहीं नाम पत्नी पर प्रकृति पार्वती बहुत भारत भावों भी मन महत्त्व महाकवि कालिदास महाकवि कालिदास ने महान कालिदास मंदाकिनी मानव मार्ग मेघ को मेघदूत मेघदूत में में ही यक्ष यह युग रघु रघुवंश राजा राम रूप में वर्णन किया है वह वाली वाले विद्वानों शकुन्तला शाप शिव सच्चे सबसे सभी सही संगीत संस्कृत स्थान स्पष्ट साधना से ही हिमालय के उत्तराखण्ड हुआ हुई हुए है और है क्योंकि है कि है किन्तु है है हैं होकर होता है होने के

Bibliographic information