Kabīra-kāvya meṃ kālabodha

Front Cover
Rādhākr̥shṇa, 2001 - Literary Criticism - 263 pages
0 Reviews
Concept of time in the works of Kabir, 15th cent. Hindi devotional poet; a study.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
7
Section 2
9
Section 3
13
Copyright

10 other sections not shown

Common terms and phrases

अपना अपनी अपने इस इसलिए इसी ईश्वर उनकी उनके उस उसे एक एवं कबीर ने कर करके करता है करती करते हुए करते हैं करना करने का कवि कविता कहते का काल की काव्य के अनुसार के कारण के रूप में के लिए को अंग कोई चाहिए जब जा जाता है जाती जाते जीव जीवन की जो तक तथा तो था थी थे दर्शन द्वारा दिया दो दोनों धर्म नष्ट नहीं है पद पर प्रकार पू पृ पेम भक्ति भारत भावना भाषा भी मन मनुष्य मनुष्य को मानव माया मृत्यु यम यया यर यल यह यहि यही यहीं या रहता है व्यक्ति वि वे शरीर श्यामसुन्दर दास श्री सकता है सत्य सन्त सब सभी समय समाज समाज के समाज में संसार स्पष्ट साथ साधना सामाजिक साहित्य सिख से हिन्दी साहित्य ही हुआ है और है कि है की हो होकर होता है होती होते होने

Bibliographic information