Muṇḍā ādivāsiyoṃ kī bhāshāem̐ āura unakī saṃskr̥ti

Front Cover
Jayabhāratī Prakāśana, 1999 - Fiction - 136 pages
0 Reviews
Dialogue in the plays of Jai Shankar Prasad, 1889-1937, Hindi author; a study.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

5 other sections not shown

Other editions - View all

Common terms and phrases

अन्य अपनी अपने अर्थ इन इस इसके इसलिए इसी उदाहरण उनके उसके उसे एक एवं ऐसी ऐसे कथावस्तु कर करता है करते करना करने कहा का काव्य किन्तु किया है किसी कुछ के नाटकों में के लिए के संवाद के संवादों को कोई गद्य चरित्र चाहिए जनमेजय जब जयशंकर जयशंकर प्रसाद जा जाता है जाती जो तक तथा तब तरह तो था दशरथ द्वारा दृष्टि दोनों नहीं है नाटक की नाटक में नाटककार नाटकों के निष्कर्ष ने पर पसार प्रकार प्रसाद के नाटकों पृ भाया भाषा भी भेरी मगर मन मृ० में भी मैं यक यम यया यर यह यहाँ या ये रहता है रा रूप में वबय वस्तु वह विचार विश्लेषण विषय वे शब्द शिल्प सकता है संवाद के संवादों के स्थिति साथ साहित्य से हर ही हुआ हुए है और है कि है तो है है हैं हो होगा होता है होती होते होने

Bibliographic information