Nārīwādī cintana ate Pajābī kahāṇī

Front Cover
Aimma. Pī. Prakāshana, 2006 - Literary Criticism - 239 pages
0 Reviews
Feminism in Panjabi short story; a study.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
4
Section 2
7
Section 3
9

11 other sections not shown

Common terms and phrases

उठ उत उतम उतृ उसी उसे ऊँ की घ'उत घट जी जीउ टिम टिमे टी टे टॉल ठ'सिब ठठी ठठी३ ठती ठती३ ठाउ'डी ठाउठ ठी ठे डाडे डिउ डी डीमा डे डेल ढीठ ति1या ती तीया ते ते बि तें तेउ तेट तेत तेली तेसिया तेही तै दिउ दित दिस दी ऩटें नसे ने पत पिंड पेम पैउ प्यासी बउ'ही बउठ बउप्टी बउप्टीया बत बतती बिने बीड बेडी बेत बैत भाडे भी मउ मउउ मउउ से मठ मतउ मम'ऩ मां माउउ मासी मिडे मी मैंम यत या या'पटे या'राटे याउउ याटे यातउ याते राठ रात रुठी र्थोंउउ र्पठ लडी लती लही लुइ ले वे वें सार सिंउ सिंडी सिउ सिठ सिठु सित सिधे सिने सिब सिम सिमउती सिया'उ सिरों सिले सेट सेम हंउ हंठु हंम सी हंम हुँ हँसे हाल ही हुं हुँउ हेउ हेठु हेम है उ है बि है से हैत हैती हैम हैरां

Bibliographic information