Nāyakanāyikāguṇālaṅkāra

Front Cover
Sushamā Kulaśreshṭha, Candrakānta Śukla, Anand Kumar, Śrīdhara Vāsudeva Sohonī, Urmilā Śrīvāstava
Eastern Book Linkers, 1993 - Fiction - 472 pages
0 Reviews
Study of the erotics in Kālidāsa, Sanskrit author

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

1112 111 111 81112 नियम 11111 1112 19112111 प्रटा1१टों 1किसे1०
यह
1 प्र पह 5०1१०ए 19 11011 11 11

1 other sections not shown

Common terms and phrases

१० ११ १२ अग्निवर्ण अज अत अथवा अपनी अपने अलबम आचार्य आदि इति इन इस इस प्रकार इसी उन उनकी उनके उन्हें उपर्युक्त उर्वशी उस उसे ऋतुसंहार एक एवं ओर औदार्य और कर रहा करती करते हुए करते हैं करना करने का कान्ति कामदेव कालिदास किन्तु किया है किसी की कुछ के कारण के प्रति के लिए के समान के साथ को क्योंकि गई गया है गुण जब जाने जो तथा तरह तुम तो था थीं थे दिया दुष्यन्त दोनों नहीं नामक नायक नायकाल९र नायिका ने पद्य में पर पार्वती प्राप्त प्रिय भाव भी मन मुख मेघ मैं यह यहाँ रघुवंश रहा है रही राजा रूप में वह वाली वाले विलास वे शकुन्तला शरीर शिव शोभा समय सीता सुन्दर से से युक्त स्पष्ट हाव ही हुआ हुई हुए हूँ है और है कि है है हैं हो होता है होती होने से