Rājaśekhara kālīna Bhārata

Front Cover
Vidhyānidhi Prakāśana, 1997 - Literary Criticism - 219 pages
Study on the works of Rājaśekhara, ca. 800-ca. 920, Sanskrit author; reflecting history and culture of India.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अध्ययन अनेक अन्तर्गत अन्य अपनी अपने आँफ आए आदि आधुनिक इण्डिया इतिहास इन इलाहाबाद इस इसका इसकी इसके उगे उत्तर उनके उपाध्याय उल्लेख किया उल्लेख मिलता उल्लेख है एक एण्ड एवं और कर करती करते करने कवि का उल्लेख काल में कालिदास किया जाता किया है की कुछ के अनुसार के लिए को क्षेत्र गुजरात ग्रन्थ जनपद जा जाता था जाती जीवन तक तत्कालीन तथा तो था थाई थाना थाप थी थे दक्षिण दिया देश दो द्वारा धर्म नदी नहीं नाम पंजाब पका पटना पर परन्तु पाणिनि पूर्व पृ प्रकार के प्रथम प्रदेश प्रमुख प्रयोग प्राचीन प्राप्त भाग भारत के भारतवर्ष भारतीय भी मिलता है मृ० में यम यर यल यह या रा राजशेखर ने वर्णन वल वह वाराणसी वाले विद्धशालभजिका विभिन्न विवाह विष्णु शिक्षा शिव श्री श्रेय संस्कृत समय समाज में से स्थिति हिन्दी हिमालय ही हुआ हुए हैं हो होता है कि होती होते होने

Bibliographic information