Rasaratnākara-Rasakhaṇḍam: sapariśiṣṭa 'Rasacandrikā' Hindīvyākhyopetam

Front Cover
Caukhambā Amarabhāratī Prakāśana, 1985 - Alchemy - 132 pages
Verse work on alchemy and metallic medicines used in ayurveda.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

5 other sections not shown

Other editions - View all

Common terms and phrases

१० अभ्रक अम आदि आयुर्वेद इन सबों इस प्रकार इसके बाद इससे उत्तम उत्पन्न उपदेश उस उसके उसको एक दिन एवं करता है करना करने करने से करें का किया की के दूध के रस के के लिये के समान को दूर क्याथ गजपुट में गजल गन्धक गुण गोलक ग्रहण चार चाहिए चिकित्सा चूर्ण जल जाय जो तथा तरह तीन तु तैयार हो जाता तैल तो दूध दे नहीं नाग निकाल नीबू पक है पर पाचन करे पारद को पीसकर पुट दे पुटे पुन प्रकार के बार भरम भस्म भाग भी मारण में पकाते में प्रयोग में बन्द कर यन्त्र यह रस के साथ रा रोग ले लेकर लौह वह वा वाला विधि विष वैश्य शिलाजीत शुद्ध शुध्द शोधन सभी समभाग सात से स्वर्ण ही हीरा हे है है हैं हो जाता है होता है

Bibliographic information