Rgyas paʼi bstan bcos tshad ma rnam ʼgrel gyi dkaʼ ʼgrel dgoṅs pa rab gsal

Front Cover
Kruṅ-goʼi Bod kyi śes rig dpe skrun khaṅ, 1998 - Buddhist logic - 530 pages
0 Reviews
Commentary on Pramāṇavārttika of Dharmakīrti, 7th cent.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

43 other sections not shown

Common terms and phrases

आदुमान आश्माड़े ऊणमान ऐणभोप्रर ऐतत्र ऐतर ऐधिर ऐन ऐन तन ऐप ऐर औप्रने और कमा का कुठत्तर कुमार के केय क्मा क्या खुप्रर गु गुति घुमा चिरने चिरमे च्छा जू जैमा जो तई तन तर त्यतरने त्र था दृ दृ/न दृति दृन दृनन दृप्ररन दृर दृरतर देकैधिन्तठर देर देरधार धान धार नए नन नर ने पटे/न पर्वप्रर पवृटरतर पवृप्रठर पश्चिन पस् पु पुए पुपु पुमा पुमाड़े पुर पुस प् प्/८ प्/न प्त्भीहैंप्रने प्त्र प्या प्यार प्र प्र८र प्रप्र प्रमा प्रर प्ररईमा बुन बैधि बैधि.मा बैधिक्मा भा भून भूप्रर मा मानेर मार मारधार मारिकेता मारिकेप्रर मारिजैप्रर मारिपीप्रर मारिभोप्रर मारिहै मैं यपुर यफय यर यश्य रन रा रार रास र्या/ने लाधिरयतर ले लेत लेतत्र लेतर लेन वृठती वृतती वृतर्णर वृन वे शा सं संणन्तठर स् स्त्र स्धि स्धिभोप्रर स्धिर स्रने ही हेमा है है है हैं हो होर

Bibliographic information