Sacitra mānasika evaṃ tantrikā roga cikitsā

Front Cover
Caukhambhā Amarabhāratī Prakāśana, 1976 - Medicine, Ayurvedic - 404 pages

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अत्यधिक अथवा अधिक अनेक अन्तराबन्ध अन्य अपने अवनमन अवस्था में आदि इत्यादि इन इस रोग इसका इसकी इसके इसी प्रकार उत्पन्न हो उपचार उसके एक एवं ऐसे और औषधि औषधियों कभी कभी कम कर करते हैं करना चाहिए करने का का प्रयोग कारणों कार्य किया किसी की अवस्था की चिकित्सा की मात्रा में कुछ के अन्तर्गत के कारण के लक्षण के लिए के साथ कोई चिकित्सक को जब जा जाती जाते हैं जैसे जो तक तन्त्रिका तब तो दिन में द्वारा नहीं नाम पर परन्तु प्रकार प्रकार के प्रभाव प्राय बहुत बार भाग भी मस्तिष्क मानसिक मिलिग्राम यदि यह या ये रहता है रूप से रोगियों में रोगी को रोगी में लक्षण लाभ वह वाले विकार विशेष व्यक्ति व्यक्तित्व व्यक्तियों व्यवहार शरीर शारीरिक सकता है सभी समय सम्बन्धी सामान्य सेवन ही है और है कि है तथा हो जाता है होता है होती होते हैं होने

Bibliographic information