Smr̥tiyoṃ kī dharohara

Front Cover
Alekh Prakashan, 2007 - Authors, Hindi - 167 pages
Reminiscences of the Hindi author of his friends and associates; includes discussion with them on 20th century Hindi literature.
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
5
Section 2
7
Section 3
11
Section 4
16
Section 5
20
Section 6
25
Section 7
30
Section 8
36
Section 19
95
Section 20
101
Section 21
106
Section 22
110
Section 23
114
Section 24
120
Section 25
125
Section 26
128

Section 9
41
Section 10
45
Section 11
51
Section 12
57
Section 13
64
Section 14
67
Section 15
69
Section 16
77
Section 17
84
Section 18
92
Section 27
132
Section 28
135
Section 29
144
Section 30
147
Section 31
151
Section 32
155
Section 33
160
Section 34
165
Section 35

Common terms and phrases

अनेक अपना अपनी अपने अब आए आप आया इस उत्तर उन उनका उनकी उनके उनसे उन्हें उन्होंने उर्दू उस दिन उसके उसे एक और कई कभी कर करना करने कवि कविता कविताएँ कहा का काम कारण कालेज कि वे किया किसी की कुछ के बाद के लिए के साथ को कोई क्या गई गए गया घर चला जब जी जीवन जो डॉ तक तब तो था कि थी थे दिया दिल्ली दो दोनों नहीं नाम ने पता पत्र पर पहले पास पुस्तक पूछा फिर बताया बहुत बात बातचीत बार बोले भाषा भी भेंट मिला मिश्र मिश्रजी मुझे में मेरा मेरी मेरे मैं मैंने यह या याद रहा रही रहे थे रूप लगभग लगा लगे लिखा लिया लेखक वर्ष वर्षों वह वहाँ विश्वविद्यालय व्यक्ति शर्मा संस्मरण सकता सन् समय साहित्य से हम हिंदी हिंदी के ही हुआ हुई हुए हूँ है और है कि हैं हो हो गया होता

Bibliographic information