Uttara pradeśa sivila sevā kā saṅgaṭhana evaṃ kāryapraṇālī: svatantratā ke paścāt kā ālocanātmaka adhyayana

Front Cover
Klāsikala Pabliśiṅga Kampanī, 1992 - Study Aids - 226 pages
Importance and functioning of the civil service in Uttar Pradesh in the post-1947 period: a study.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
5
Section 2
7
Section 3
11

9 other sections not shown

Common terms and phrases

अत अधिक अधिकारियों अधिकारी अनेक अन्य अपने आँफ आज आफ आयोग आवश्यक इन इलाहाबाद इस प्रकार इस सेवा के उत्तर प्रदेश उनके उन्हें उसके उसे ए० एक एण्ड एवं एस० और करता है करना करने के कर्मचारी का कार्य कार्यों किन्तु किया किया गया किसी की कुछ के कारण के लिए को कोई गया है गये चाहिए जब जा सकता जाए जाता है जाती जिला जो तक तथा था दि दिया जाता है द्वारा नहीं नियोजन ने पद पदोन्नति पर परीक्षा पी० पृ ० पृ० प्रत्येक प्रशासन के प्रशासनिक प्रशिक्षण प्रान्तीय सिविल प्राप्त बात भारत भी भ्रष्टाचार मंत्री में यदि यह या योग्यता योजना रहे राज्य रूप से लोक सेवा वह विकास विशेष वे वेतन वेतनमान व्यवस्था शासन सकता है समय सम्बन्ध सरकार साथ सिविल सेवकों सिविल सेवा से सेवा में सेवाओं ही हुए हेतु है और है कि है तो हैं हो होता है होती होना होने

Bibliographic information