Vinayapatrikā meṃ prapattivāda

Front Cover
Prema Prakāśana Mandira, 1983 - Poetry - 110 pages
0 Reviews
Study, in the context of theory of surrender to God (Prapattivāda), of Vinayapatrikā, work by Tulasīdāsa, 1532-1623, Hindi religious poet.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3

7 other sections not shown

Other editions - View all

Common terms and phrases

अत अति अथवा अन्य अपनी अपने अब अर्थात आदि आराध्य इत्यादि इस इसीलिए उनकी उनके उन्होंने एक एवं और कर करके करता है करना करने करने के लिए कहते हैं कहीं का काव्य किन्तु किया है किसी की है कृपा के कारण के प्रति केवल को क्योंकि गई गया है गोरखपुर गोस्वामी जब जा जी जो ज्ञान तक तथा तब तुलसी की तुलसी ने तुलसीदास तो त्याग था दिया दृष्टि से द्वारा नहीं नहीं है नाम पद पर परम परमात्मा पृ० प्रकार प्रदान प्रपत्ति प्रभु प्राप्त करने बहुत भक्त भक्त के भक्ति भगवान भाव भी मन में मैं यदि यह यहाँ या रक्षक-रूप राम के रामचरितमानस रूप में वह वही वहीं वाराणसी विनयपत्रिका विश्वास वे वेद व्यक्त शरण में शरणागति शिव संकल्प संवत् संस्करण सकता सब से सो स्थिति स्वयं हिन्दी साहित्य ही है कि है है हैं होता है होती होते होने

Bibliographic information