Karmavīra: mahāna śikshāvid Bhāūrāva Pāṭīla kī jīvana gāthā

Front Cover
Paridr̥śya Prakāśana, 1998 - Educators - 144 pages
0 Reviews
On the life and work of Bhaurao Patil, 1887-1959, educator and social reformer from Maharashtra.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अत अनेक अपना अपनी अपने अपर अब इन इस इसी उई उन उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उस उसे एक ऐसा करते करने क्रिया का किया किसी की के और के भी के लिए के साथ को गया गये गो घर चल छाई जब जा जात जाता जाती जाते जाने जाय जीवन जैसे जो झा तथा तो था थे दल दिन दिया दिल देते देने दो धा नहीं ने यहा परि पल प्रकार प्राप्त पाया पाये पुणे फिर बणा के भाऊराव ने भी भेरी भोजन मन मपब महाराष्ट्र मुझे मुंबई में में भी मैं यक यक्ष यत् यब यम यर यल यल के यह यहीं रह रहा रहे रात रुपये रूप लिया ले वे श्री शिक्षा के सभी समय समारोह सरकार सरि सहायता संख्या संस्था के स्वयं सातारा सिख से ही हुआ हुई हुए हूँ है है हैं हो होता होती होते होने

Bibliographic information