Flora & plant kingdom in Sanskrit literature

Front Cover
Eastern Book Linkers, Jan 1, 2003 - Literary Criticism - 487 pages
0 Reviews
This Festschrift Is Multi-Dimensional In Approach And Will Prove Useful To Sanskritists, Indologists, Environmentalsts, Florists And Plant Scientists For Its Penetrating Insights Into Various Blanches Of Sanskrit And Indology.

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

य य 1244 जि
27
प०1य1 यल 111 १य४ठों 1 21 1 अ 28 180111121
111
हु जिम 51151014 1शाय1७साझ९
143
Copyright

Common terms and phrases

०र अत अथर्ववेद अधि अनेक अप अपने अब अम अशोक आदि आय इस इसके इसी उगे उत्पन्न एक एवं और कमल कर करता करती करते है करने कवि कहा का का वर्णन कालिदास किया गया है किया है की के रूप में के लिए को गई गए जता है जल जा जाता जाते जि जो तथा ता ति तो था थी थे द्वारा नहीं नाम ने पता पर पुष्य प्त प्र प्रकार प्रती प्रयोग प्राप्त प्राय फल भारत भी मन मय मेघदूत मैं यक्ष यजुर्वेद यत् यथा यब यम यय यया यर यल यश यह यहाँ यही यहीं या ये रघुवंश रामायण रि वन वनस्पति वनस्पतियों वने वली वह वाले विक्रमोर्वशीयम् वृक्ष वे शकुन्तला शिर संस्कृत सब सभी समय सा सिर से ही हुआ है हुई हुए है और है कि हैं हो होता है होती होते होने

Bibliographic information