Bhāshā vij˝āna kośa: Pariśishṭa rūpameṃ bhāsha vij˝ānakī Aṅgrejī Hindī pāribhāshika śabdāvalīke sātha

Front Cover
J˝ānamaṇḍala, 1964 - Language and languages - 807 pages
0 Reviews

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Common terms and phrases

अधिक अनुसार अन्य नाम है अब अर्थ आदि आधारपर इन इस प्रकार इसका इसके बोलनेवालोकी संख्या इसमें इसी इसे उत्तरी उसके एक अन्य नाम एक नाम है एक बोली एक भाषा एक रूप है कर कहते हैं है कहा का एक अन्य कारण किसी की कुछ के के लिए केवल कोई गया है है गयी गये चीनी जर्मन जा सकता है जाता है जाता है है जाती जो तथा तो थी है दक्षिणी दृष्टिसे दे० दे०)का एक दो दोनों द्वारा ध्यनि नहीं है पंजाबी पर परिवार पाया प्रकारके प्रमुख प्रयोग प्राचीन बहुत बोली बोली है भाषा है भाषाएँ भाषाके भी भेद में यदि यह या ये रा रूपमें लिए प्रयुक्त एक लिपि लोग वर्ग वह विशेषण शब्द संस्कृत सभी साथ से स्वर ही है इसके है और है कि है जैसे है यह है है है है है होता है होता है है होती होते

Bibliographic information