Bhakti ānodalana aura Sūradāsa kā kāvya

Front Cover
Vāṇī Prakāśana, 1993 - Health & Fitness - 307 pages
0 Reviews
Bhakti movement with special reference to Sūradāsa, 1483?-1563?, Braj and Hindi saint poet

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
3
Section 2
4
Section 3
5
Copyright

20 other sections not shown

Common terms and phrases

अधिक अनुभूति अनेक अपनी अपने अभिव्यक्ति आत्मा आदि आंदोलन इस इसलिए उद्धव उनकी उनके उस उसका उसके उसमें एक कबीर कर करती करते हैं करने कवि कविता कवियों कहा का काल कालिदास काव्य किया है किंतु की की है कुछ कुष्ण कृष्ण के के अनुसार के कारण के रूप में के लिए के साथ केवल को गोपियों गोपियों के जयदेव ज्ञान जाता है जीवन जो तथा तो था दिखाई दो दोनों धर्म नहीं है पद सो पर परंपरा प्रकट प्रकार प्रकृति प्रेम प्रेम की पुराण बलराम भक्त भक्ति भगवान भागवत भारतीय भाव भी मन महाभारत मानवीय में ही यशोदा यह या राधा राधा का रासलीला लीला लेकिन वर्णन वह व्यक्ति वात्सल्य विकास विद्यापति विशेष विष्णु वे श्रीकृष्ण समय समाज संपूर्ण संयोग स्वरूप सामाजिक साहित्य सूर की सूरदास ने सूरसागर में से सौंदर्य हिंदी ही हुआ है हुई हुए हृदय है और है कि है है हो होता है होती

Bibliographic information