Purāṇoṃ Meṃ Rāṣṭrīya Ekatā

Front Cover
Nag Publishers, 1990 - India - 448 pages
0 Reviews

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Legal principles of Vyasa
99
विष्णु पुराण में राष्ट्रीय भावना
185
पुराणों में भारतवर्ष का नामकरण
195
Copyright

6 other sections not shown

Other editions - View all

Common terms and phrases

अग्निपुराण अत अनेक अन्य अपने अयोध्या अलंकार अहिंसा आदि आधार इतिहास इन इस इसी उनके उपनिषद उसे ऋग्वेद एक एवं ओर और कर करता है करते हैं करना करने कहा गया है का का उल्लेख काल किया गया किया है किसी की कुछ के अनुसार के कारण के रूप में के लिए केवल को कोई जब जा जाता है जैन जैसे जो ज्ञान तक तथा तो था थी थे दिया दृष्टि देवी द्वारा धर्म नहीं है नाम ने पर परन्तु पु० पुत्र पुराण में पुराणकार पुराणों पुराणों में पूर्व प्रकार प्राचीन प्राप्त बात ब्रह्म ब्राह्मण भरत भारत भारतीय भी मत्स्य मत्स्यपुराण मनु महाभारत माना में भी यह यहां या युग रहा वर्णन वर्ष वह वही विष्णु वे वेद वैदिक व्यास शक्ति शिव श्लेष सभी समय सूर्य से स्थान ही हुई हुए है और है कि हैं हो होता है होती होते होने Brahma king Puranas river Visnu

Bibliographic information