Mainapurī janapada kā rājanaitika itihāsa: svantantratā saṅgrāmoṃ kī amara gāthā

Front Cover
Śuklā Prakāśana, 1977 - Mainapurī Janapada (India) - 279 pages

From inside the book

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Other editions - View all

Common terms and phrases

३० ४१ ४२ ६ मास अनेक अपनी अपने अब आगरा आदि आन्दोलन इटावा इन इन्हें इस इसके इसी उत्तर प्रदेश उन्होंने एक एवं और कर दिया करते करने के का कांग्रेस कार्य कि किया किया था की की ओर कुछ कुरावली के कारण के लिए के साथ को क्षेत्र गई गये गिरफ्तार गुप्त जनता जनपद के जब जिला जी जीवन जेल जो डा० तक तो था था० थी थीं थे दल दिन दिया गया दी दीक्षित देश देशभक्त द्वारा नगर नहीं नाम निवास ने पर पुत्र श्री पुलिस फिर बडी बहुत बाद बेवर भाग भारत भी महात्मा गांधी में भी मैं मैनपुरी जनपद में यह यहाँ या ये रहा रहे राजा राष्ट्र रूप लिया लेकिन वर्ष वह वाले वे शिकोहाबाद संग्राम सन् सब सरकार सर्वश्री से सेनानी स्थान स्थित स्वतन्त्रता ही हुआ हुई हुए है है कि है है हैं हो होने

Bibliographic information