Bharatiya Parmanu Shastra

Front Cover
Prabhat Prakashan, 2009 - Nuclear energy - 379 pages
0 Reviews
तीन दशकों तक भारत परमाणु शक्ति के रूप में उभरने की दिशा में आत्मसंयम बरतने की नीति अपनाता आ रहा था । 11 - 13 मई, 1998 को भारत की रक्षानीति में नया मोड़ आया । इस दिन भारत ने परमाणु परीक्षण किए । यह राष्ट्रीय तथा अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में युगांतरकारी घटना है । इसी दिन भारत ने यह घोषणा की कि अब यह देश परमाणु शक्ति-संपन्न राष्ट्र बन चुका है । इसी दिन से भारत की रक्षानीति में नया अध्याय आरंभ हो गया था । भारत की विदेश नीति पाँच दशक पुरानी है; जबकि परमाणु नीति इसी घटना के साथ आरंभ हुई । राष्ट्रीय स्तर पर इन परीक्षणों के बाद यह आवश्यकता उभरकर सामने आई कि परमाणु शक्ति- संपन्न राष्ट्र के रूप में भारत को अधिक सुस्पष्ट नीति तैयार करनी चाहिए । अब, हमें विश्वसनीय प्रतिनिवारण क्षमता (deterrance) के सिद्धांत एवं कार्यनीति पर विचार करना है तथा आवश्यक कमांड और नियंत्रण प्रणालियों को आवश्यकता के अनुरूप बनाना है, ताकि आकस्मिक रूप से (दुर्घटनावश) या गलत अनुमान से होनेवाले परमाणु संबंधी खतरे की संभावना कम-से-कम की जा सके । निरस्त्रीकरण से अप्रसार की ओर मुड़ने तथा अप्रसार व्यवस्था के दबावों के सापेक्ष भारत द्वारा गए परीक्षणों तथा परमाणु शक्ति के बारे में निर्णय लिया गया है । भारत इस व्यवस्था के फंदों को तोड़ पाने में सफल हो गया है । इन बाधाओं से परमाणु नीति के संदर्भ में भारत द्वारा अपनाए गए खुले विकल्प ' पर अप्रासंगिक दबाव बढ़ रहा था । क्षेत्रीय स्तर पर इन परीक्षणों से यह प्रमाणित हो गया कि इस क्षेत्र में लंबे समय से परमाणु और मिसाइल का प्रसार हो रहा है तथा यह भी स्पष्ट हो गया कि यह प्रसार किस सीमा तक हो चुका है । एक ओर परमाणु शक्ति-संपन्न राष्ट्र तथा दूसरी ओर चीन और पाकिस्तान के बीच रणनीति-विषयक सहयोग से भारत की सुरक्षा के प्रति नकारात्मक निहितार्थों के साथ-साथ इनके आधार भी तैयार होने लगे थे । परमाणु परीक्षणों से भारत रणनीति-विषयक माहौल को नया रूप देना चाहता है, दिन पर दिन बढ़ती जा रही विषमता दूर करना चाहता है तथा संक्रांति के दौर से गुजर रहे विश्व के सामने खड़ी सामरिक अनिश्चितताओं से निपटने के लिए अपनी क्षमताएँ बढ़ाना चाहता है, ताकि अपनी सुरक्षा तथा मूल हितों को भी बचाया जा सके । इस पुस्तक में इन सभी मुद्दों का पता लगाने तथा इनका विश्लेषण करने का प्रयास किया गया है, ताकि विभिन्न स्तरों पर आवश्यक तार्किक नीति संबंधी दृष्टिकोण एवं वस्तु-स्थिति का आकलन किया जा सके । परमाणु राष्ट्र के रूप में भारत के अम्युदय से जुड़ी जटिलताओं पर विभिन्न दृष्टिकोणों से विचार किया गया है । इस प्रक्रिया में वस्तु-स्थिति की सही तसवीर पेश करने की कोशिश की गई है । महत्त्वपूर्ण घटनाक्रमों के तुरंत बाद इस पुस्तक में विशद विषय-वस्तु तथा गहन विश्लेषण प्रस्तुत किया गया है । इसीके साथ-साथ राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय क्षेत्र में विद्यमान महत्वपूर्ण मसलों का भी सम्यक् अध्ययन किया गया है ।
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
5
Section 2
7
Section 3
11
Section 4
28
Section 5
30
Section 6
61
Section 7
76
Section 8
85
Section 18
220
Section 19
231
Section 20
235
Section 21
238
Section 22
246
Section 23
255
Section 24
256
Section 25
257

Section 9
94
Section 10
105
Section 11
110
Section 12
132
Section 13
139
Section 14
157
Section 15
166
Section 16
174
Section 17
186
Section 26
267
Section 27
270
Section 28
272
Section 29
274
Section 30
275
Section 31
294
Section 32
335
Section 33
358

Common terms and phrases

अन्य अपनी अपने अब अमेरिका अमेरिका के अरबों इन इम इराक इस इसके ईरान उगे उन्होंने उस उसे एक औद्योगिकी और कम कर करते करना करने के लिए कहा का कि पाकिस्तान किया किया गया किया जा किसी की कुछ के नाभिकीय के रूप में के लिए को कोई क्षमता क्षेत्र खाद गई गया है चाहिए चीन के जब जाता है जाने तक तथा तरह तैयार तो था था कि थी थे दिया देने देश दो द्वारा नहीं नहीं है नाभिकीय नाभिकीय हथियार नियंत्रण निरस्तीकरण नीति ने पकता है पर परमाणु परीक्षण पाकिस्तान के पाले प्राप्त फिर बद भन् भारत के भी मई ममय मिसाइल मिसाइलों में मैं यम यर यल यह या युद्ध रणनीतिक रहा है रहे रा रूप है रूस लेकिन वने वर वल वह विकास वे शामिल शीतयुद्ध संधि से सोवियत स्थिति हजार हथियारों ही हुआ हुई हुए है और है कि हैं हो होने

Bibliographic information