Mera Vatan

Front Cover
Prabhat Prakashan
0 Reviews
हिंदी कथा-साहित्य के सुप्रसिद्ध गांधीवादी रचनाकार श्री विष्णु प्रभाकर अपने पारिवारिक परिवेश से कहानी लिखने की ओर प्रवृत्त हुए बाल्यकाल में ही उन दिनों की प्रसिद्ध ' उन्होंने पढ़ डाली थीं । उनकी प्रथम कहानी नवंबर 1931 के 'हिंदी मिलाप ' में छपी । इसका कथानक बताते हुए वे लिखते हैं-' परिवार का स्वामी जुआ खेलता है, शराब पीता है, उस दिन दिवाली का दिन था । घर का मालिक जुए में सबकुछ लुटाकर शराब के नशे में धुत्त दरवाजे पर आकर गिरता है । घर के भीतर अंधकार है । बच्चे तरस रहे हैं कि पिताजी आएँ और मिठाई लाएँ । माँ एक ओर असहाय मूकदर्शक बनकर सबकुछ देख रही है । यही कुछ थी वह मेरी पहली कहानी । सन् 1954 में प्रकाशित उनकी कहानी ' धरती अब भी घूम रही है ' काफी लोकप्रिय हुई । लेखक का मानना है कि जितनी प्रसिद्धि उन्हें इस कहानी से मिली, उतनी चर्चित पुस्तक ' आवारा मसीहा ' से भी नहीं मिली । श्री विष्णुजी की कहानियों पर आर्यसमाज, प्रगतिवाद और समाजवाद का गहरा प्रभाव है । पर अपनी कहानियों के व्यापक फलक के मद्देनजर उनका मानना है कि ' मैं न आदर्शों से बँधा हूँ न सिद्धांतों से । बस, भोगे हुए यथार्थ की पृष्ठभूमि में उस उदात्त की खोज में चलता आ रहा हूँ । .झूठ का सहारा मैंने कभी नहीं लिया । ' उदात्त, यथार्थ और सच के धरातल पर उकेरी उनकी संपूर्ण कहानियों हम पाठकों की सुविधा के लिए आठ खंडों में प्रस्तुत कर रहे हैं । ये कहानियाँ मनोरंजक तो हैं ही, नव पीढ़ी को आशावादी बनानेवाली, प्रेरणादायी और जीवनोन्मुख भी हैं ।
 

What people are saying - Write a review

We haven't found any reviews in the usual places.

Contents

Section 1
Section 2
Section 3
Section 4
Section 5
Section 6
Section 7
Section 8
Section 17
Section 18
Section 19
Section 20
Section 21
Section 22
Section 23
Section 24

Section 9
Section 10
Section 11
Section 12
Section 13
Section 14
Section 15
Section 16
Section 25
Section 26
Section 27
Section 28
Section 29
Section 30
Section 31
Section 32

Other editions - View all

Common terms and phrases

अपनी अपने अब अलका आई आए आकर आगे आज आप आया इतना इस उठा उनकी उनके उन्हें उन्होंने उस उसका उसकी उसके उसने उसी उसे एक ओर और और फिर कई कभी कर करता करते करने कह कहाँ का कांत कि किया किसी की की तरह कुछ के लिए को कोई क्या क्यों क्षण गई गए गया घर जब जा जाने जी जैसे जो ठीक डॉक्टर तक तब तभी तुम तुम्हारे तो थी थीं थे दिन दिया देखा दो नहीं है ने पड़ा पर परंतु पहले पास पूछा फिर बहुत बात बाद बार बोला बोली बोले भर भी मन माँ मुझे में मेरा मेरी मेरे मैं मैंने यह यहाँ यही रहा था रहा है रही थी रहे लगा लिया ले लेकिन लोग वह वहाँ वे सकता सब समय सहसा साथ से कहा हम हाँ हाथ ही हुआ हुई हुए हूँ है और है कि हैं हो होगा होता

Bibliographic information